बाँका:-देश के 72 वें गणतंत्र डीएम ने शहर के आरएमके इंटर स्तरीय स्कूल मैदान में पहराया तिरंगा !

0

पंकज कुमार ठाकुर की रिपोर्ट!

बांका। जिला पदाधिकारी सुहर्ष भगत ने देश के 72 वें गणतंत्र दिवस के पवन अवसर पर शहर के आरएमके इंटर स्तरीय स्कूल मैदान स्थित मुख्य समारोह स्थल पर में पर राष्ट्रीय ध्वज को लहराया है। इससे पहले जिला पदाधिकारी सुहर्ष भगत और पुलिस अधीक्षक अरविंद कुमार गुप्ता ने परेड की सलामी ली तथा गार्ड का निरीक्षण भी किया है।
कोविड-19 के कारण पहली बार गणतंत्र दिवस के अवसर पर कुछ अलग तरीके से झंडोत्तोलन कार्यक्रम मनाया गया। जिसमें न तो किसी अथिति को आमंत्रित किया गया और न हीं स्वंत्रता सेनानियों को बुलाया गया। इस बार स्कूली बच्चों को भी दूर रखा गया। परेड में भी मात्रा पांच टुकड़ी को ही शामिल किया गया। राष्ट्रीय पर्व के अवसर पर पूरा मैदान खाली रहा। सीमित संख्या में ही लोगों को आने की अनुमति दी गई थी।

पर्यटन के मानचित्र पर छाएगा बांका
डीएम सुहर्ष भगत ने जिले वासियों के देश के 72 वें गणतंत्र दिवस पर बधाई देते हुए अपने संबोधन में कहा कि वैश्विक महामारी कोरोना पूरे विश्व को प्रभावित किया। इससे बांका जिला भी अछूता नहीं रहा। यहां अब तक 3 हजार 117 कोरोना संक्रमित व्यक्ति पाए गए। खुशी की बात यह है कि जिले में 7 केंद्रों पर वैक्सीनेशन का काम शुरू हो चुका है। अब तक 1 हजार 270 स्वास्थ्य कर्मियों एवं फ्रंटलाइन वर्कर्स का टीकाकरण किया जा चुका है। नए वर्ष में पर्यटन के क्षेत्र में बांका जिला नया मुकाम छुएगा। जहां एक और अमरपुर के भदरिया में पुरातात्विक अवशेष का पता चला है तो वहीं दूसरी ओर ओढ़नी जलाशय का सौंदर्यीकरण एवं मंदार में पर्यटकों के लिए रोपवे का शुभारंभ जल्द ही होने वाला है। बांका जैसे कृषि प्रधान जिले में लोगों की आय बढ़ाने के लिए जिला प्रशासन द्वारा मधुमक्खी पालन, मशरूम, लेमनग्रास की खेती को बढ़ावा देने के लिए विशेष प्रयास किए जा रहे हैं। जो किसानों के लिए भविष्य में आय का स्रोत बनेगा।

रोजगार मुहैया कराने की दिशा में की जा रही है पहल
डीएम ने कहा कि प्रवासी श्रमिकों को रोजगार मुहैया कराने के लिए चांदी की मछली, मधुमक्खी बॉक्स, पत्ता प्लेट उद्योग, कैटरिंग एवं एंब्रॉयडरी जैसे क्लस्टर का गठन किया गया है। आत्मनिर्भर भारत अभियान के तहत 20 प्रवासी कामगारों को इलेक्टिक पोटरव्हील एवं 10 प्रवासी कामगारों को लेदर टूल किट दिए जाने की योजना है। नीति आयोग के द्वारा देशभर के आकांक्षी जिलों की रैंकिंग में शिक्षा विभाग बांका ने प्रथम स्थान प्राप्त किया है। शिक्षा विभाग द्वारा उन्नयन क्रैश कोर्स एवं उन्नयन नवोदय कार्यक्रम चलाया जा रहा है। जिससे यहां के छात्र-छात्राओं को बेहतर शिक्षा का अवसर प्राप्त होगा। समाज के कमजोर वर्ग विशेष रूप से महादलित समुदाय के लोगों के लिए कई कल्याणकारी योजनाएं चलाई जा रही है। बांका को स्वच्छ एवं सुंदर बनाने के लिए जिलेवासियों द्वारा विशेष पहल किया जा रहा है। जो कि अत्यंत सराहनीय कदम है। डीएम ने बांका वासियों से अपील की है कि शांति, सद्भाव एवं सांप्रदायिक सौहार्द कायम रखते हुए राष्ट्र के विकास में अपनी भूमिका निभाएं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *