गिरिडीह:-झामुमो जिला कार्यालय में मनाई गई सावित्रीबाई ज्योतिराव फुले जयंती!

0

रिपोर्ट:- विलियम जैकब

महिलाओं और दलित जातियों को शिक्षित करने के लिए सर्वप्रथम प्रयास सावित्रीबाई फुले ने किया: विधायक

झामुमो जिला कार्यालय में सावित्रीबाई ज्योतिराव फुले भारत की प्रथम महिला शिक्षिका के 190वीं जयंती पर एक श्रद्धांजलि कार्यक्रम रखा गया। इस कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के रूप में विधायक गिरिडीह सुदिव्य कुमार सोनू ने उपस्थित होकर माल्यार्पण किया।
बैठक की अध्यक्षता जिला अध्यक्ष संजय सिंह ने की एवं संचालन महिला नेत्री प्रमिला मेहरा द्वारा किया गया।
सर्वप्रथम विधायक ने माता सावित्रीबाई ज्योतिराव फुले की चित्र में माल्यार्पण कर श्रधांजलि अर्पित किए। तत्पश्चात जिलाध्यक्ष एवं अन्य साथियों ने श्रधांजलि अर्पित कर इनके द्वारा दिए गए समाज मे योगदानों को याद किया।
विधायक सुदीव्य कुमार सोनू ने कहा कि इन्होंने ही महिलाओं और दलित जातियों को शिक्षित करने के लिए सर्वप्रथम प्रयास किया एवं समाज मे जगह दिलाई।
जिलाध्यक्ष संजय सिंह ने कहा कि सावित्रीबाई पूरे देश की महानायिका हैं। हर बिरादरी और धर्म के लिये उन्होंने काम किया। जब सावित्रीबाई कन्याओं को पढ़ाने के लिए जाती थीं तो रास्ते में लोग उन पर गंदगी, कीचड़, गोबर, विष्ठा तक फैंका करते थे। सावित्रीबाई एक साड़ी अपने थैले में लेकर चलती थीं और स्कूल पहुँच कर गंदी कर दी गई साड़ी बदल लेती थीं। अपने पथ पर चलते रहने की प्रेरणा बहुत अच्छे से देती हैं।
महिला नेत्री प्रमिला मेहरा ने कहा कि माता सावित्रीबाई फुले जब स्कूल जाती थीं, तो विरोधी लोग पत्थर मारते थे। उन पर गंदगी फेंक देते थे। आज से 171 साल पहले बालिकाओं के लिये जब स्कूल खोलना पाप का काम माना जाता था। कितनी सामाजिक मुश्किलों से खोला गया होगा।
इस कार्यक्रम में महालाल सोरेन, शहनवाज अंसारी, उषा ठाकुर, गीता हाजरा, सोनी चौरसिया, सुनीता शर्मा, शबीना खातून, सुनीता देवी, ललिता देवी, भैरो वर्मा, अभय सिंह, दिलीप रजक, संजय वर्मा, राकेश सिंह, रोकी सिंह, आनंद मिश्रा, चांद राशिद, सुमन सिन्हा, शोभा यादव, संजीव सिन्हा सहित कई कार्यकर्ता उपस्थित थे।झामुमो जिला कार्यालय में मनाया गया सावित्रीबाई ज्योतिराव फुले जयंती।

महिलाओं और दलित जातियों को शिक्षित करने के लिए सर्वप्रथम प्रयास सावित्रीबाई फुले ने किया- विधायक।

गिरिडीह : झामुमो जिला कार्यालय में सावित्रीबाई ज्योतिराव फुले भारत की प्रथम महिला शिक्षिका के 190वां जयंती पर एक श्रद्धांजलि कार्यक्रम रखा गया। इस कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के रूप में विधायक गिरिडीह सुदिव्य कुमार सोनू उपस्थित होकर माल्यार्पण किए।
बैठक की अध्यक्षता जिला अध्यक्ष संजय सिंह ने की एवं संचालन महिला नेत्री श्रीमती प्रमिला मेहरा द्वारा किया गया।
सर्वप्रथम विधायक ने माता सावित्रीबाई ज्योतिराव फुले की चित्र में माल्यार्पण कर श्रधांजलि अर्पित किए। तत्पश्चात जिलाध्यक्ष एवं अन्य साथियों ने श्रधांजलि अर्पित कर इनके द्वारा दिए गए समाज मे योगदानों को याद किया।
विधायक सुदीव्य कुमार सोनू ने कहा कि इन्होंने ही महिलाओं और दलित जातियों को शिक्षित करने के लिए सर्वप्रथम प्रयास किया एवं समाज मे जगह दिलाई।
जिलाध्यक्ष संजय सिंह ने कहा कि सावित्रीबाई पूरे देश की महानायिका हैं। हर बिरादरी और धर्म के लिये उन्होंने काम किया। जब सावित्रीबाई कन्याओं को पढ़ाने के लिए जाती थीं तो रास्ते में लोग उन पर गंदगी, कीचड़, गोबर, विष्ठा तक फैंका करते थे। सावित्रीबाई एक साड़ी अपने थैले में लेकर चलती थीं और स्कूल पहुँच कर गंदी कर दी गई साड़ी बदल लेती थीं। अपने पथ पर चलते रहने की प्रेरणा बहुत अच्छे से देती हैं।
महिला नेत्री प्रमिला मेहरा ने कहा कि माता सावित्रीबाई फुले जब स्कूल जाती थीं, तो विरोधी लोग पत्थर मारते थे। उन पर गंदगी फेंक देते थे। आज से 171 साल पहले बालिकाओं के लिये जब स्कूल खोलना पाप का काम माना जाता था। कितनी सामाजिक मुश्किलों से खोला गया होगा।
इस कार्यक्रम में महालाल सोरेन, शहनवाज अंसारी, उषा ठाकुर, गीता हाजरा, सोनी चौरसिया, सुनीता शर्मा, शबीना खातून, सुनीता देवी, ललिता देवी, भैरो वर्मा, अभय सिंह, दिलीप रजक, संजय वर्मा, राकेश सिंह, रोकी सिंह, आनंद मिश्रा, चांद राशिद, सुमन सिन्हा, शोभा यादव, संजीव सिन्हा सहित कई कार्यकर्ता उपस्थित थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *